कतर्निया वन्य क्षेत्र खुलने के बाद उमड़ी भीड़, पहले दिन पहुंचे इतने पयर्टक…

0 3

बहराइच–मानसून के चलते पांच महीने से बंद कतर्नियाघाट वन्यजीव प्रभाग में शुक्रवार से पर्यटन सत्र की शुरुआत हुई। पर्यटन सत्र के पहले दिन 190 पर्यटक कतर्निया पहुंचे। सभी ने जंगल का भ्रमण कर पर्यटन का आनंद लिया।

उत्तर प्रदेश वन निगम के प्रबंधक निदेशक और जीएम उद्योग ने पर्यटन सत्र का उद्घाटन किया। वन विभाग की नई पहल पर वन्यजीव संरक्षण के लिए स्कूली छात्र-छात्राओं द्वारा साइकिल जागरुकता रैली भी निकाली गई। कतर्नियाघाट वन्यजीव प्रभाग के जंगलों में मानसूनी बरसात के चलते पांच महीने पहले पर्यटन को बंद कर दिया गया था। पर्यटकों के प्रवेश पर पूरी तरह से प्रतिबंध था। 15नवंबर से फिर से पर्यटन की शुरुआत कर दी गई। कतर्नियाघाट को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया। कतर्नियाघाट के मुख्य गेट पर शुक्रवार को वन और पर्यटन विभाग के अधिकारियों द्वारा हवन पूजन किया गया। समारोह के दौरान उत्तर प्रदेश वन निगम के प्रबंधक निदेशक डॉ. राजीव कुमार गर्ग ने फीता काटकर उद्घाटन किया।

पर्यटन सत्र की शुरुआत जीएम उद्योग इवा शर्मा, डीएफओ कतर्निया जीपी सिंह, उत्तर प्रदेश इको पर्यटन के डीएलएम अतुल अस्थाना, डीसीएम प्रदीप सिंह नेे परिवार के साथ कतर्नियाघाट का भ्रमण कर किया। कार्यक्रम के दौरान सुल्तानपुर से आए पहले पर्यटक डॉ. विनोद कुमार को पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया गया। इससे पूर्व सुबह सात बजे के करीब मोतीपुर से ककरहा रेंज की सीमा तक स्कूली बच्चों व स्थानीय लोगों द्वारा साइकिल रैैली निकाली गई। धर्मापुर सेे मुर्तिहा रेंज होते हुए निशानगाड़ा पहुंचने पर रैली का स्वागत किया गया। डीएफओ जीपी सिंह ने बताया कि कतर्नियाघाट में पहले दिन 190 पर्यट पहुंचे थे। इसमें 19 बाहरी पर्यटक थे। जबकि 171 क्षेत्रीय ग्रामीण व स्कूली बच्चे भी मौजूद थे।

Related News
1 of 1,476

डीएफओ ने बताया कि गिरिजापुरी बैराज का क्लोजर समाप्त कर दिए जाने के कारण गेरुआ नदी में पानी पहुंच गया है। ऐसे में अब सभी लोग वोटिंंग का भी आनंद उठा सकेंगे। उद्घाटन के दौरान एसओएस टाइगर के अध्यक्ष फैज मोहम्मद, एसडीओ यशवंत सिंह, वन क्षेत्राधिकारी पीयूष मोहन श्रीवास्तव, कबीर दास, विजय सिंह, एपी सिंह, दयाशंकर सिंह, एके त्यागी, मनोज पाठक, कबीरुलहसन आदि मौजूद रहे।

होम स्टे की सुविधा भी पा सकेंगे पर्यटक:

प्रभागीय वनाधिकारी जीपी सिंह ने बताया कि इको टूरिज्म के तहत वन निगम की ओर से इस बार होम स्टे की सुविधा भी शुरू की गई है। इसके तहत पीलीभीत, दुधवा, बहराइच व श्रावस्ती के दो भू स्वामियों को प्रमाण पत्र जारी किया गया है। कतर्निया में कारीकोट निवासीराजकुमार सिंह व चहलवा निवासी रमेश चौहान के घर होम स्टे की सुविधा पर्यटक उठा सकेंगे। विभाग की वेबसाइट पर भी इसकी सूचना उपलब्ध रहेगी। पर्यटक बुकिंग के बारे में वेबसाइट से भी जानकारी ले सकेंगे।

(रिपोर्ट-अनुराग पाठक, बहराइच)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...
नई खबर पढ़ने के लिए अपना ईमेल रजिस्टर करे !
आप कभी भी इस सेवा को बंद कर सकते है |

 

 

शहर  चुने 

Lucknow
अन्य शहर