ब्रेकिंग न्यूज़

विवादित ढांचे के विध्वंस की 26वीं बरसी आज,छावनी में तब्दील हुई अयोध्या

प्रदेश
Typography

अयोध्या -- उत्तर प्रदेश के अयोध्या में 6 दिसंबर को विवादित ढांचा ढहाए जाने की आज 26वीं बरसी है। जिसको लेकर रामनगरी में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। पूरी अयोध्या छावनी में तब्दील हो गई है तथा जिले में धारा 144 लगा दी गई है।

अयोध्या -- उत्तर प्रदेश के अयोध्या में 6 दिसंबर को विवादित ढांचा ढहाए जाने की आज 26वीं बरसी है। जिसको लेकर रामनगरी में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। पूरी अयोध्या छावनी में तब्दील हो गई है तथा जिले में धारा 144 लगा दी गई है।

बता देें कि विवादित ढांचा गिराए जाने की बरसी के दिन 6 दिसंबर को हिन्दू संगठनों ने शौर्य दिवस तथा मुस्लिम संगठनों ने यौमे गम दिवस मनाने की घोषणा के बाद अयोध्या में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। जगह-जगह चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। अयोध्या में शांति व सुरक्षा के मद्देनजर प्रमुख स्थलों के साथ ही भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर मजिस्ट्रेटों की खास नजर है। 

वहीं पुलिस अधीक्षक नगर अनिल कुमार सिसौदिया ने बुधवार को बताया कि छह दिसंबर 1992 को विवादित ढांचा ध्वस्त होने की 26वीं बरसी पर विभिन्न संगठनों ने कई कार्यक्रम आयोजित करने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि इसके मद्देनजर अयोध्या में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

उन्होंने बताया कि सुरक्षा के लिए स्थानीय पुलिसबल के अलावा 12 अपर पुलिस अधीक्षक, 15 पुलिस उपाधीक्षक, 40 उपनिरीक्षक, 50 थानाध्यक्ष, 80 सब-इंस्पेक्टर, 100 कांस्टेबल समेत दस कंपनी पीएसी, आरएएफ की तैनाती की गई है। विवादित श्रीराम जन्मभूमि परिसर के आसपास लगे सुरक्षाबलों को सतर्कता बरतने के लिए निर्देश दिए गए हैं। वहीं असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखने के अलावा होटल, गेस्ट हाउस, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन एवं सराय पर भी आने-जाने वालों व ठहरने वालों की निगरानी के आदेश दिए गए हैं।

Related image

छह दिसंबर को आयोजित सभी कार्यक्रमों की वीडियोग्राफी तथा फोटोग्राफी कराने के साथ-साथ सादी वर्दी में फोर्स तैनात की गई है। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए इसे चार जोन तथा नौ सेक्टरों में बांटा गया है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। अयोध्या के चारों तरफ बैरियर लगाकर सघन चेकिंग की जा रही है। जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। ड्रोन से भी निगरानी की जा रही है।

गौरतलब है कि एक तरफ जहां कुछ हिन्दू संगठनों ने छह दिवस को शौर्य दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की है। दूसरी ओर मुस्लिम संगठनों ने अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखकर यौमे गम दिवस मनाने का निर्णय लिया है।मुस्लिम मस्जिदों में बाबरी मस्जिद के पुन: निर्माण के लिए दुआ करेंगे।हालांकि विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने मुख्यालय कारसेवकपुरम में शौर्य दिवस नहीं मनाने की घोषणा की है।

Pin It