ब्रेकिंग न्यूज़

इस SSP ने जीता जनता का विश्वास, ये मुहिम बनी चर्चा का विषय...

खास चेहरा
Typography

एटा-- उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ प्रदेश में कानून का राज स्थापित करने लिए पूर्व की सरकारों से अपराध को कम करने के लिए प्रदेश के सभी जनपदों में अपराधों पर लगाम लगाने के निर्देश दिए थे। 

एटा-- उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ प्रदेश में कानून का राज स्थापित करने लिए पूर्व की सरकारों से अपराध को कम करने के लिए प्रदेश के सभी जनपदों में अपराधों पर लगाम लगाने के निर्देश दिए थे। 

आंकड़ों की मानें तो पिछले वर्षों की तुलना में एटा जनपद में लगभग सभी प्रकार के अपराध घटाने में एटा एसएसपी अशीष तिवारी को सफलता मिली है। अपने नायाब तरीके से जनपद में सन् 2018 में सभी प्रकार के अपराधों में कमी आई है और जनपद की जनता में उन्होंने अपना विश्वास कायम किया है। टेक्नोलाॅजी के प्रभावी उपयोग तथा पुलिस की चुस्त दुरस्ती के चलते जिले में 2017 में 857 अपराध रजिस्टर हुए थे जबकि सन् 2018 में- 718 ही अपराध हुए है। पिछले साल अपेक्षाकृत इस बर्ष 2018 में 139 अपराध कम करने में एसएसपी अशीष तिवारी ने सफलता हासिल की है। जनपद में उनके इस नायाब पुलिसिंग तरीके की हर ओर जमकर प्रशंसा हो रही है।

हालांकि यह भी कह सकते हैं कि अपराध कम करने में उन्हें महारथ हासिल है। क्योंकि इससे पूर्व में भी वो मिर्जापुर में कप्तान रहकर अपनी निष्पक्ष छवि व अपने काम की दम पर अपराध कम करके वह मिशाल पेश कर चुके है।

थाना कोतवाली नगर, अलीगंज, जसरथपुर, थाना निधौलीकलाॅ की घटनाएं काफी बड़ी व चर्चित घटनाएं रही, लेकिन एसएसपी के शख्त निर्देशन में एटा पुलिस ने जल्द घटनाओं का खुलासा कर अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वाहन चोरी,गृहभेदन, ठगी जैसी छोटी घटनाओं के साथ दहेज हत्या, हत्या, डकैती, लूट, दुष्कर्म, अपहरण व चोरी से संबंधित घटनाएं भी कम दर्ज हुई हैं। जिसमें शस्त्र अधिनियम में 355, जुआ अधिनियम में 100, एनडीपीएस में 12, आबकारी अधिनियम में 373, गुण्डा अधिनियम में 367 तथा गैंगस्टर एक्ट में 47 कठोर कार्यवाहियाॅ की गई हैं। साथ ही वर्ष 2018 में अभियुक्तो के विरुद्ध 115 हिस्ट्रीशीट खोली गई है। शराब माफियाओं के विरुद्ध वर्ष 2018 में बड़ी कार्यवाहियाॅ करते हुये 231416 लीटर कच्ची शराब, 42580 लीटर अंग्रेजी शराब तथा 32 वाहन जब्त किये गये। वर्ष 2018 में पुरस्कार घोषित अपराधियों पर भी पुलिस ने कार्यवाही करते हुये उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा है। जिसमें 5000, रुपये तक के पुरस्कार घोषित 5 अपराधी, 10000, रुपये तक के पुरस्कार घोषित 8 अपराधी,15,000 रुपये तक के पुरस्कार घोषित 11 अपराधी, 20,000 रुपये तक के पुरस्कार घोषित 3 अपराधी तथा 25,000 रुपये तक के पुरस्कार घोषित 20 अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है।

दोनों वर्षों के आपराधिक तुलनात्मक आंकडे़ ये है।

अपराध - 2017 -  2018

----------------------------------------------

डकैती      -       6.     -         4

लूट        -     60-             37

हत्या        -     55     -        46

बलात्कार  -     34   -          42

दहेज हत्या -    38 -           41

छेड़खानी   -       1    -        1

शीलभंग   -    185   -          150

चोरी         -    478    -  397

(रिपोर्ट-आर.बी.द्विवेदी, एटा)

Pin It